महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को एक और बड़ा झटका लगा है. ठाकरे के करीबी और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री दीपक सावंत मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे गुट में शामिल हो गए. शिंदे ने इस दौरान कहा कि हम सावंत का पार्टी में स्वागत करते हैं और इससे हमें फायदा होगा.

लगातार उद्धव गुट से निकल रहे हैं नेता

उद्धव ठाकरे को लगातार कई नेता छोड़कर जा रहे हैं. शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) के वरिष्ठ नेता सुभाष देसाई के बेटे भूषण देसाई सोमवार को शिंदे के नेतृत्व वाली शिवसेना में शामिल हो गए थे.

उद्धव ने अफजल खान से कर दी बीजेपी की तुलना

पार्टी में हो रही टूट के बीच उद्धव ठाकरे ने बीजेपी और शिंदे गुट पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने मुंबई में बीजेपी की तुलना अफजल खान से करते हुए कहा कि जिस तरह अफजल खान ने हिंदुस्तान में आक्रमण करते हुए लोगों के घर तोड़ दिए, भगवान के मंदिरों को तहस नहस किया. लोगो को अपने साथ लाने के लिए जो किया, वही काम बीजेपी आज कर रही है. अगर पार्टी में शामिल नहीं होते हैं तो जेल भेज रही है.

चुनाव आयोग में शिंदे गुट को मिली थी जीत

पिछले साल जून में एकनाथ शिंदे उद्धव ठाकरे से अलग होकर उन्होंने बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बना ली. शिंदे खुद मुख्यमंत्री बन गए. इसके बाद से असली शिवसेना को लेकर लड़ाई चली लेकिन चुनाव आयोग ने शिंदे गुट को असली शिवसेना के रूप में मान्यता दे दी थी. बता दें कि निर्वाचन आयोग ने हाल में पार्टी का नाम और चुनाव चिह्न ‘धनुष-बाण’ शिंदे नीत खेमे को आवंटित किया था. इसके बाद से ही आए दिन शिंदे गुट और उद्धव गुट के नेताओं एक दूसरे पर हमले कर रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here