मध्य प्रदेश में जैसे जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं, नेताओं का सियासी पारा बढ़ता जा रहा है। एक तरफ कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ लगातार शिवराज सरकार पर सवाल खड़े कर रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी कमलनाथ को उनकी सरकार का हिसाब बता रहे हैं। आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक बार फिर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को आड़े हाथ लिया। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा- कमलनाथ पर तरस आता है, कई बार लगता है उनकी उम्र अब उनके व्यक्तित्व पर हावी हो रही है। अब वह कहते हैं कि जरूरत ही नहीं है विधायक की।

ये भी पढ़ें- MP: कमलनाथ बोले- सरकार आने पर रोकेंगे धार्मिक आयोजनों के हादसे, सेफ्टी ऑडिट होगा अनिवार्य

अब कांग्रेस का भगवान ही मालिक है- CM

मुख्यमंत्री ने कहा, लोकतंत्र में चुने हुए जनप्रतिनिधि की हैसियत भी संविधान में बताई गई है, और कांग्रेस यह भी जानती है कि मुख्यमंत्री का चुनाव विधायक ही करते हैं। वो पहले भी कहते थे कि मुझे जरूरत नहीं है तो लोग कांग्रेस से निकलकर आ गए। अब फिर कह रहे हैं मुझे जरूरत नहीं है, जाओ जहां जाना हो। अपने आप को कहलवाते हैं भावी मुख्यमंत्री, अवश्यंभावी सीएम और कहते हैं विधायकों की जरूरत ही नहीं है। अब कांग्रेस का भगवान ही मालिक है, जिसका नेता कह रहा हो मुझे जरूरत ही नहीं है। यह उनका अहंकार भी है।

ये भी पढ़ें- कांग्रेस समेत 14 विपक्षी दलों को बड़ा झटका, SC ने खारिज़ की याचिका, कहा- ‘नेताओं के लिए अलग नियम कैसे हो सकते हैं’?

‘कॉर्पोरेट राजनीति करने वाले हैं कमलनाथ’

सीएम शिवराज यहीं नहीं रुके, उन्होंने आगे कहा ‘पता नहीं वो क्या-क्या बोलते हैं? कल शायद कहा ‘न मैं चाय बेचने वाला हूं, न मैं मामा हूं’। तो मैं कहता हूं कि मामा तो तुम हो ही नहीं सकते। मामा तो वह होता है जिसके दिल में बहनों और बेटियों के लिए इज्जत होती है। तुम किसान हो नहीं सकते क्योंकि तुमने किसानों के वादे कभी पूरे नहीं किए। कर्जमाफी का वादा करके मुकर गए। माटी की सौंधी सुगंध जानते नहीं हो। चाय वाला तो कोई गरीब ही हो सकता है। सोने की चम्मच मुंह में लेकर पैदा होकर कॉर्पोरेट राजनीति करने वाले और मौका मिलते ही पूरे प्रदेश को लूटने वाले कैसे चाय वाले हो सकते हैं?’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here