उत्तर प्रदेश के वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद केस में उच्चतम न्यायालय ने वुज़ू के लिए समाधान दे दिया है. शीर्ष अदालत ने वाराणसी के जिलाधिकारी से यह सुनिश्चित करने को कहा कि ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में ‘वुज़ू’ के लिए पानी से भरे प्लास्टिक के टब पर्याप्त संख्या में उपलब्ध कराए जाएं. प्रधान न्यायाधीश डी. वाई. चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति पी एस नरसिम्हा की पीठ ने यूपी सरकार की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता का यह बयान दर्ज किया कि जिलाधिकारी द्वारा मस्जिद परिसर में जल की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी.

सॉलिसिटर जनरल का बयान दर्ज

सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने कहा, ‘‘सॉलिसिटर जनरल कहते हैं कि ‘वुज़ू’ की सुविधा मुहैया कराने के लिए जिला मजिस्ट्रेट यह सुनिश्चित करेंगे कि पानी के टब पर्याप्त संख्या में उपलब्ध कराएं जाएं.’’ इससे पहले न्यायालय ने जिलाधिकारी को ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में मुस्लिम नमाजियों के लिए ‘वुज़ू’ की अनुकूल व्यवस्था उपलब्ध कराने को लेकर बैठक करने को कहा था.

यह भी पढ़ें– यूट्यूबर मनीष कश्यप पर NSA लगाने पर सुप्रीम कोर्ट हैरान, बिहार और तमिलनाडु सरकार से मांगा जवाब

यह भी पढ़ें– …अब पटना में जागा ‘अतीक प्रेम’- अ​तीक अमर रहे…मोदी-योगी मुर्दाबाद…के लगे नारे

20 मई 2022 के आदेश का हवाला

शीर्ष अदालत अंजुमन इंतेजामिया मस्जिद समिति की उस याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें रमजान के महीने में वाराणसी के मस्जिद परिसर में वुज़ू की अनुमति देने का अनुरोध किया था. न्यायालय ने पिछले साल 20 मई के अपने आदेश का हवाला दिया था, जिसमें उसने निर्देश दिया था कि परिसर के अंदर कुछ क्षेत्रों को सील करने के बाद ‘वुजू’ और शौचालय की सुविधा प्रदान की जाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here