समूचे उत्तर भारत समेत देश के विभिन्न इलाकों में पड़ रही भीषण गर्मी से अब फौरी राहत मिलने की संभावना है। इस बीच कई जगह बारिश का दौर शुरू हो गया है तो कुछ जगह आने वाले एक दो दिन मौसम का मिजाज बदल जाएगा।

उत्तर भारत समेत देश के विभिन्न इलाकों में अब हीट वेव का दौर अब थम जाएगा। पश्चिमी विक्षोभ (Western Disturbance) की वजह से उत्तर पश्चिम भारत के राज्यों में भीषण गर्मी का दौर देखने को मिल रहा है। लेकिन आसमानी आग से अब जल्द राहत मिलने की खबर है। मौसम विभाग ने बताया है कि 24 मई से तापमान में गिरावट आएगी। इसके साथ ही कई राज्यों में आंधी, गरज के साथ बारिश और ओले पड़ने का येलो अलर्ट जारी किया गया है।

कई राज्यों में येलो अलर्ट

मौसम विभाग ने येलो अलर्ट राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और चंडीगढ़ के लिए जारी किया है। मौसम विज्ञानी आरके जेनामणि ने बताया कि पहाड़ी इलाकों में अगले दो से तीन दिनों तक तेज बारिश की संभावना है। वहीं, पूर्वी भारत में तेज आंधी के आसार हैं। दिल्ली के प्रमुख मौसम केंद्र सफदरजंग वेधशाला में बुधवार को न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री कम 25.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

यह भी पढ़ें- नये संसद भवन में PM स्थापित करेंगे ‘सेंगोल’, जानिये Video में क्या है सेंगोल और क्या हैं इसके मायने…

दो-तीन दिन बारिश की संभावना

आईएमडी के अनुसार, पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र के ऊपर सक्रिय एक पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव के कारण दिल्ली समेत पूरे उत्तर-पश्चिम भारत और आसपास के इलाकों में अगले दो से तीन दिनों तक बादल गरजने और रुक-रुककर बारिश होने का अनुमान है।

नजफगढ़ में 46 डिग्री के पार हुआ तापमान

राजधानी दिल्ली का मंगलवार को अधिकतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री ज्यादा 43.5 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री ज्यादा 29.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। वहीं, नजफगढ़ में तापमान 46.7 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था। नजफगढ़ में रविवार और सोमवार को भी तापमान 46 डिग्री के पार पारा पहुंच गया था।

मध्य प्रदेश में भी गर्मी से राहत

मध्य प्रदेश के कई हिस्सों में पड़ने वाली भीषण गर्मी से इस बार लोगों को राहत मिली है। मौसम विभाग के अनुसार बुधवार को प्रदेश के कई हिस्सों में बारिश होने के आसार है। प्रदेश में रीवा, सतना, सीधी, खजुराहो और सिवनी में बारिश का दौर देखने को मिला है।

पश्चिमी विक्षोभ के असर के साथ ही अरब सागर में बने चक्रवात के कारण बार-बार बारिश की स्थिति पैदा हो रही है. वहीं इसके चलते एक नया सिस्टम बनने के कारण प्रदेश के कई हिस्सों में बारिश होने की संभावना है. बारिश के चलते मई के महीने में पड़ने वाली भीषण गर्मी से भी लोगों को राहत मिली है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here