देश में पहले ही महंगाई से जनता की टेंशन खत्म नहीं कि दूसरी टेंशन  शुरू हो गई है, बीते 3 सालों में कोरोना काल के दौरान महंगाई में जबरदस्त उछाल आया है, कोरोना काल-लॉकडाउन खत्म हो चुका है, लेकिन महंगाई थमने की बजाय बढ़ती जा रही है, अब तक शायद जनता को यही उम्मीद थी कि मोदी सरकार आई, राहत लाई, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ, सब इसके विपरीत नजर आ रहा है, आलम ये है कि आम जनता महंगाई से थक चुकी है, पेट्रोल-डीजल के भाव आसमान पर पहुंच गए हैं, हाल ही में फिर LPG सिलेंडर के दामों में 50 रुपये की बढ़ोतरी हुई थी, हर वस्तुओ की कीमतों में पहले से ही इजाफा हुआ है, दरअसल अब इस 18 जुलाई से हर वस्तुओं पर GST लगेगा जो कि देश की जनता के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं, यानी सभी प्रोडक्ट GST के दायरे में आएंगे, जिससे महंगाई घटने की बजाय और बढ़ेगी, कई जरूरी चीजों के दाम बढ़ जाएंगे, इसलिए आप घरेलू सामानों, होटल्स, बैंक सर्विसेज समेत अन्य पर अधिक खर्च करने के लिए तैयार रहें।

इन वस्तुओं पर 18% GST, इस पर आप एक नजर डालें…

1)- प्रिंटिंग, राइटिंग या ड्रॉइंग इंक पर 18 फीसदी टैक्स चुकाना होगा

2)-बिजली से चलने वाली पंप, गहरे ट्यूब-वेल टर्बाइन पंप, सबमर्सिबल पंप, साइकिल पंप पर 18 फीसदी

3)- कागज के चाकू, पेंसिल शार्पनर, ब्लेड, चम्मच, कांटे, करछुल, स्किमर्स, केक-सर्वर पर

4)- एलईडी लैंप और मेटल प्रिटेंड सर्किट बोर्ड पर

5- सफाई, छंटाई या ग्रेडिंग, बीज, अनाज दालों के लिए मशीनें, , पवन चक्की, एयर बेस्ड आटा चक्की, गीली चक्की

6)- ड्राइंग और उसके इंस्ट्रूमेंट्स पर

7) चेक, लुज चेक, बुक फॉर्म पर

8) रोड, पुल, रेलवे, मेट्रो, एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट, श्मशान के कार्य अनुबंध पर

7) रोड, पुल, रेलवे, मेट्रो, अपशिष्ट उपचार संयंत्र, श्मशान घाट पर कार्य अनुबंध की दरें बढ़ाकर 18 प्रतिशत किया जा रहा है, पहले इन पर 12 प्रतिशत GST लगता था।

इस वस्तुओं पर 12% GST

1) सोलर वॉटर, हीटर और सिस्टम

2) फिनिश लेदर,चामोइस लेदर,कम्पोजिशन लेदर पर 12 फीसदी टैक्स

3- मैप, हाइड्रोग्राफिक,सभी तरह के समान चार्ट, दीवार के नक्शे, टोपोग्राफिकल प्लांस, ग्लोब शामिल हैं।

4) 1000 रुपये प्रति दिन कीमत वाले होटलों में ठहरने पर

5) अस्तपताल में कमरे का किराया पर मरीज प्रति दिन 5 हजार से ज्यादा का शुल्क, बिना आईटीसी के कमरे के लिए 5% की दर से शुल्क लगेगा

6) चमड़े का सामान, जूते के संबंध में जॉब वर्क पर जीएसटी दर 5 प्रतिशत से बढ़ाकर 12 प्रतिशत कर दी गई है।

दरअसल बुधवार को चंडीगढ़ में 2 दिवसीय 47वीं GST परिषद की बैठक हुई थी, इस बैठक में सिफारिशों के बाद कई वस्तुओं के लिए माल,सेवा कर यानी GST में बढ़ोतरी की गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here