उत्तर प्रदेश में लेखपाल भर्ती परीक्षा के परिणाम पर सियासत शुरू हो गई है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इन परिणामों में धांधली का आरोप लगाया है। उन्होंने ट्वीट कर यूपीएसएसएससी (UPSSSC) द्वारा करवाई गई लेखपाल भर्ती परीक्षा के परिणाम पर सवाल उठाए हैं।

अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा, यूपी पुलिस ने लेखपाल भर्ती परीक्षा में नक़ल करते हुए जिस महिला अभ्यर्थी को सबूत के साथ पकड़ा था, उसे उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने उतीर्ण घोषित कर दिया है। ये ईमानदार अभ्यर्थियों के साथ अन्याय है। जांच हो और दंडात्मक कार्रवाई भी” भाजपा सरकार में नक़ल माफिया का अमृतकाल चल रहा है।

परीक्षा के दौरान पकड़ी गई थी रीतू सिंह

दरअसल, यूपी में जुलाई 2022 में लेखपाल भर्ती का आयोजन कराया गया था, प्रयागराज के करेली स्थित चेतना गर्ल्स इंटर कालेज के सेंटर में एक अभ्यर्थी रीतू सिंह को नकल करते हुए पकड़ा गया था। पूछताछ में पता चला था कि कालेज प्रबंधतंत्र की मिलीभगत से महिला अभ्यर्थी को नकल कराई जा रही थी।

जांच के दौरान, अभ्यर्थी रीतू सिंह के पास से बरामद नकल पर्ची का मिलान परीक्षार्थी की उत्तर पुस्तिका की कार्बन प्रति से कराई गई थी। जिसके बाद एसपी सिटी ने कहा था कि इसमें एकरूपता पाई गई। इससे स्पष्ट है कि यहां नकल का खेल चल रहा था।

बता दें, अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने लगभग नौ महीने बाद लेखपाल भर्ती लिखित परीक्षा का परिणाम मंगलवार को जारी कर दिया। इसमें 8085 पदों के सापेक्ष 27455 अभ्यर्थी अभिलेख परीक्षा के लिए चयनित हुए हैं।

यह भी पढ़ें- बजरंग दल पर बैन की बात पर भड़के CM शिवराज, बोले- सिमी को खाद-पानी कौन देता था?

यह भी पढ़ें- कर्नाटक को ‘शाही परिवार’ का ATM बनाना चाहती है कांग्रेस- मोदी, बोले- जय बजरंग बली…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here