मध्य प्रदेश में शराब की दुकानों पर ‘अहातों’ में पीने वालों के लिए बुरी ख़बर है। शिवराज सरकार ने 1 अप्रैल से नई शराब नीति लागू कर दी है। आज से प्रदेश के सभी शराब अहातों में ताले लग जायेंगे और नये अहाते खोले जाने के लिए अनुमति नहीं मिलेगी।

2600 ‘अहातों’ और ‘शॉप बार’ पर लगा ताला, नये पर भी रोक

अब प्रदेश की शराब दुकानों के पास संचालित करीब 2600 अहाते उन लोगों के लिए यादें बन जायेंगे जो यहाँ बैठकर जाम छलकाते थे, सीएम शिवराज सिंह चैहान ने आज के दिन को मध्य प्रदेश के लिए ऐतिहासिक दिन बताया है। मध्य प्रदेश में नई शराब नीति के तहत लागू नियम प्रभावी होंगे, इस नीति के सबसे अहम नियम के तहत आज से शराब दुकानों में संचालित “शराब अहाते” और “शॉप बार” बंद हो जायेंगे, लोग अब शराब दुकान के पास शराब नहीं पी सकेंगे। इसके अलावा नए अहाते खोलने की अनुमति भी नहीं होगी। स्कूल कॉलेज, धार्मिक स्थलों से 100 मीटर की दूरी पर शराब की दुकानें होंगी।

ये भी पढ़ें- इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर क्यों घोषित हुई फुल इमरजेंसी? जानिये इस ख़बर में…

ये भी पढ़ें- जेल से रिहा हुए नवजोत सिंह सिद्धू, बोले- लोकतंत्र नाम की कोई चीज नहीं

ड्राइविंग लाइसेंस भी होगा निलंबित

नई शराब नीति के तहत ड्राइविंग लाइसेंस निलंबित होने का भी प्रावधान है, यदि कोई शराब पीकर वाहन चलाता पकड़ा गया तो उसे 10 हजार रुपये का जुर्माना देना होगा, दूसरी बार फिर वही व्यक्ति शराब पीकर वाहन चलाते मिला तो उसका ड्राइविंग लाइसेंस निलंबित कर दिया जायेगा।

ये भी पढ़ें- ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ को PM मोदी की हरी झंडी, मात्र 7 घंटे 45 मिनट में पहुंचेगी भोपाल से दिल्ली

01 अप्रैल मध्य प्रदेश के लिए ऐतिहासिक दिन- CM

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने कहा कि एक अप्रैल मध्य प्रदेश के लिए ऐतिहासिक दिन है। आज से शराब की दुकानों से लगे शराब पीने के सारे अहाते बंद कर दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि पहले शराब की दुकान से लेकर लोग अहाते में शराब पीते थे, नशे की हालत में अपने घर पहुँच थे, अगर गाड़ी चलाते थे तो दुर्घटना का संकट भी रहता था। कई बार लोग नशे के कारण ऐसी हरकत करते थे, जिससे माँ, बहन और बेटी की सुरक्षा संकट में पड़ती थी। अहाते बंद कर देने से अब ऐसी हरकतें समाप्त होंगी। यह एक प्रकार से नशे पर नैतिक अंकुश है।

उमा भारती की मांग का असर

बता दें कि प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती पिछले कई सालों से शराब बंदी की मांग कर रही है। उन्होंने कई बार इसे लेकर आंदोलन भी किया। उमा भारती ने शिवराज सरकार को नई शराब नीति के लिए सुझाव भी दिए थे। जिसमें अहाते बंद करने, धार्मिक, शैक्षणिक संस्थानों के आसपास से शराब दुकानों की दूरी का दायरा बढ़ाने, शराब दुकानों के आगे उससे होने वाले दुष्परिणामों के होर्डिंग लगाने समेत अन्य सुझाव शामिल थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here