मध्य प्रदेश में भोपाल के बरकतउल्ला विश्वविद्यालय सहित 8 विश्वविद्यालयों के शिक्षक, अधिकारी और कर्मचारी आज से काम बंद हड़ताल पर चले गए हैं। जिसके बाद अब बरकतउल्ला विश्वविद्यालय में 4 जून से होने वाली परीक्षाएं अगले आदेश तक स्थगित करनी पड़ गई हैं।

4 लाख छात्र प्रभावित

विश्वविद्यालयों की इतनी बड़ी हड़ताल के चलते बरकतउल्ला विश्वविद्यालय के लगभग 1 लाख 27 हजार छात्र प्रभावित हुए हैं। वहीं इंदौर की देवी अहिल्या बाई विश्वविद्यालय के एक लाख 60 हजार छात्र प्रभावित हुए हैं। हड़ताल से ग्वालियर जीवाजी विश्वविद्यालय के 60 हजार और जबलपुर की रानी दुर्गावती के 25 हजार छात्र हड़ताल के चलते प्रभावित हुए हैं। वहीं पूरे प्रदेश में करीब 4 लाख छात्र इस हड़ताल से प्रभावित होते दिखाई दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें- अयोध्या में बृजभूषण शरण सिंह की रैली क्यों हुई रद्द?

अधर में 2022-23 का शिक्षा सत्र

8 विश्वविद्यालयों की इस हड़ताल का असर वर्ष 2022-23 के शिक्षा सत्र पर भी पड़ता दिखाई दे रहा है। इसके साथ ही पूरे प्रदेश में करीबन 4 लाख छात्रों की परीक्षा हड़ताल के चलते स्थगित करनी पड़ी है।

क्यों हुई हड़ताल?

बता दें कि विश्वविद्यालय के शिक्षक, अधिकारी और पेंशनर्स 7वें वेतनमान से पेंशन का भुगतान, OPS की बहाली के साथ 9 सूत्रीय मांगों को लेकर 15 मई से विरोध प्रदर्शन चल रहा है। इसी क्रम में अब पूरी तरह कामबंद हड़ताल कर दी गई है। आंदोलनकारियों ने अपनी मांगों को 6 जून तक पूरा करने का अल्टीमेटम दिया है।

यह भी पढ़ें- अमेरिका में राहुल: मोदी सरकार पर फिर साधा निशाना, बोले- PM मोदी नहीं जीतेंगे ‘2024’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here